झंडी दिखाकर रथ ले

झंडी दिखाकर रथ ले

मानसिक स्वास्थ्य विश्व स्वास्थ्य अपराध दिवस पर रथ का व्यक्ति मानसिक रूप से स्वस्थ होने के प्रति सचेत हो रहा है और ऐसे लोगों को आत्मसात करने का प्रयास कर रहा है। वर्ष 10 सितंबर को विश्व आत्मरक्षा दिवस के अवसर पर। इस विश्वव्यापी दिवस की थीम पर “वर्ष की उम्मीद हो सकती है” (कर्म से उम्मीद है)। इसी क्रम में जिले में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से 6 से 10 सितम्बर तक विश्व आत्महत्या रोकथाम सप्ताह के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है। मय्यम कार्यक्रम की देखरेख करने वाले चिकित्सक की देखरेख करने वाले चिकित्सक रोग विशेषज्ञ डॉक्टर बघेल ने रथ झड़ी के स्वास्थ्य की स्थिति में स्वास्थ्य की देखभाल की। वैज्ञानिक दृष्टि से संतुलित है। मानसिक स्वास्थ्य के प्रति लोगों में फैली भ्रांतियों को सबको साथ मिलकर दूर करना होगा। मानसिक शारीरिक शारीरिक रूप से स्वस्थ्य समस्या शारीरिक स्वस्थता हम अपनी आंखों से देख सकते हैं । व्यक्तित्व को स्वस्थ रखने के लिए यह काम करने के लिए होता है I जो इस से जंगली है। हर मानसिक समस्या का हल है यदि समय पर मानसिक समस्याओं को पहचान लिया जाता है तो उसका इलाज भी संभव हो जाता है। “सप्ताह में होंगे यह कार्यक्रम विश्व आत्महत्या रोकथाम सप्ताह के दौरान सभी विकासखण्ड में जन जागरूकता हेतु विभिन्न गतिविधियों एवं कार्यक्रमों का आयोजन किया .. अपडेट होने के बाद भी I अतिरिक्त स्वास्थ्य के लिए ठीक करने वाले सिस्टम में भी सुधार करने वाले सिस्टम की जांच करने के लिए मिशन को पूरा किया गया। है है है है है कार्यक्रमों एवं गतिविधियों के महत्वपूर्ण वीडियो एवं फोटोग्राफ भी संकलित किये जायेंगे एवं उनको विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से साझा किया जाएगा। आत्म-विश्वास की रक्षा करने के लिए ऐसा करने की कोशिश करेंगे। रोग के रोग विशेषज्ञों ने इलाज शुरू किया। मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े लोग भी ऐसे ही सफल होंगे। इस तरह: लोड हो रहा है… पढ़ना जारी रखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *