वैक्सीन बर्बादी में झारखंड अव्वल केरल, पश्चिम बंगाल की रिपोर्ट नकारात्मक बर्बादी: सरकारी आंकड़े

केरल और पश्चिम बंगाल ने मई में COVID-19 टीकों की नकारात्मक बर्बादी दर्ज की, जिससे क्रमशः 1.10 लाख और 1.61 लाख खुराक की बचत हुई, जबकि झारखंड ने सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 33.95 प्रतिशत की अधिकतम बर्बादी दर्ज की। जबकि केरल ने -6.37 प्रतिशत टीका बर्बादी की सूचना दी, पश्चिम बंगाल में -5.48 प्रतिशत दर्ज किया गया। छत्तीसगढ़ में 15.79 प्रतिशत टीके बर्बाद हुए, जबकि मध्य प्रदेश ने 7.35 प्रतिशत की सूचना दी। पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्यों ने क्रमश: 7.08 प्रतिशत, 3.95 प्रतिशत, 3.91 प्रतिशत, 3.78 और 3.63 प्रतिशत और 3.59 प्रतिशत रिपोर्ट की। आंकड़ों से पता चला है कि मई में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कुल 790.6 लाख टीकों की आपूर्ति की गई थी, जिसमें से कुल टीकाकरण 610.6 लाख थे जबकि 658.6 लाख शॉट्स का उपयोग किया गया था और समापन शेष 212.7 लाख था। मई में टीकाकरण अप्रैल की तुलना में कम था जिसमें कुल 898.7 लाख टीकाकरण किए गए थे, 902.2 लाख टीकों का उपयोग किया गया था और समापन शेष 80.8 लाख था। ७ जून तक ४५ से अधिक आबादी के लिए भारत की पहली खुराक कवरेज ३८ प्रतिशत आंकी गई थी, जिसमें त्रिपुरा ९२ प्रतिशत, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में ६५ प्रतिशत, गुजरात में ५३ प्रतिशत, केरल में ५१ प्रतिशत और दिल्ली में ४९ प्रतिशत था। ४५ से अधिक आबादी वाले तमिलनाडु की पहली खुराक कवरेज १९ प्रतिशत के निचले स्तर पर है, झारखंड और उत्तर प्रदेश में २४ प्रतिशत और बिहार में २५ प्रतिशत है। .

Leave a Reply

%d bloggers like this: