इसरो ने कोविड-19 से लड़ने के लिए 3 प्रकार के वेंटिलेटर विकसित किए

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने तीन प्रकार के वेंटिलेटर विकसित किए हैं, और नैदानिक ​​​​उपयोग के लिए प्रौद्योगिकी को उद्योग में स्थानांतरित करने के लिए आगे आए हैं क्योंकि देश कोविड -19 महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहा है। एक कम लागत वाला और पोर्टेबल क्रिटिकल केयर वेंटिलेटर, ‘प्राण’ (जरूरतमंद सहायता के लिए प्रोग्रामेबल रेस्पिरेटरी असिस्टेंस) एएमबीयू (कृत्रिम मैनुअल ब्रीदिंग यूनिट) बैग के स्वचालित संपीड़न पर आधारित है। सिस्टम में एक परिष्कृत नियंत्रण प्रणाली है जिसमें एयरवे प्रेशर सेंसर, फ्लो सेंसर, ऑक्सीजन सेंसर, सर्वो एक्ट्यूएटर के साथ-साथ एक्सपायरी और PEEP (पॉजिटिव एंड एक्सपिरेटरी प्रेशर) कंट्रोल वाल्व शामिल हैं, जैसा कि बेंगलुरु-मुख्यालय की वेबसाइट पर पोस्ट किए गए एक ब्याज अन्वेषण नोट के अनुसार अंतरिक्ष एजेंसी। चिकित्सक वेंटिलेशन मोड का चयन कर सकते हैं और एक टच स्क्रीन पैनल के माध्यम से आवश्यक पैरामीटर सेट कर सकते हैं और एक ही स्क्रीन पर दबाव, प्रवाह, ज्वार की मात्रा और ऑक्सीजन एकाग्रता जैसे विभिन्न मापदंडों की निगरानी कर सकते हैं। वेंटिलेटर चिकित्सकों द्वारा निर्धारित वांछित दर पर रोगी के फेफड़ों में ऑक्सीजन-वायु मिश्रण का आवश्यक प्रवाह प्रदान कर सकता है। इसमें बिजली की विफलता के दौरान बैकअप के लिए बाहरी बैटरी संलग्न करने का प्रावधान है। इसरो ने कहा कि प्राण इनवेसिव और नॉन-इनवेसिव दोनों तरह के वेंटिलेशन मोड का समर्थन करता है और अनिवार्य सांस (वेंटिलेटर द्वारा नियंत्रित) के साथ-साथ सहज सांस (रोगी द्वारा नियंत्रित) देने में सक्षम है। रोगी के नियंत्रित और सुरक्षित वेंटिलेशन के लिए एक मजबूत एल्गोरिदम लागू किया गया है जो वेंटिलेशन के दौरान बारोट्रामा, एस्फिक्सिया और एपनिया को रोकने के लिए अलार्म उठाता है और सुरक्षा वाल्व खोलता है। वेंटिलेशन सर्किट के गलत या अनुचित कनेक्शन या नली या सेंसर के अनजाने में डिस्कनेक्ट होने के मामले में भी अलार्म उठाया जाता है। क्रॉस-संक्रमण और वायु के संदूषण को रोकने के लिए प्रत्येक इंटरफेस पर बैक्टीरियल वायरल फिल्टर संलग्न करने के प्रावधान भी हैं। इसरो ने कहा कि आईसीयू ग्रेड पॉजिटिव प्रेशर मैकेनिकल वेंटिलेटर जिसका शीर्षक ‘वीयू’ (वेंटिलेशन असिस्ट यूनिट) है, श्वसन संकट के तहत रोगियों में सहज सांस लेने में सहायता या प्रतिस्थापित कर सकता है। वीएयू एक केन्द्रापसारक धौंकनी पर आधारित है जो फ़िल्टर की गई परिवेशी वायु में खींचता है, इसे संपीड़ित करता है और इसे वेंटिलेशन प्राप्त करने के लिए रोगी को वितरित करता है और इसलिए संपीड़ित वायवीय स्रोत के बिना काम कर सकता है। वेंटिलेटर में एक उच्च दबाव ऑक्सीजन स्रोत को जोड़ने का प्रावधान भी दिया गया है, जिससे श्वसन प्रवाह में वांछित ऑक्सीजन एकाग्रता (FiO2) प्राप्त करने के लिए ऑक्सीजन स्वचालित रूप से मीटर हो जाती है। वेंटिलेटर में माइक्रोकंट्रोलर आधारित नियंत्रण मॉड्यूल सेंसर की एक सरणी से सिग्नल प्राप्त करता है और इलेक्ट्रो-वायवीय घटकों को बंद लूप नियंत्रण को प्रभावित करने के लिए आदेश देता है। वीएयू एक सहज मानव मशीन इंटरफेस (एचएमआई) सिस्टम के साथ आता है जो मेडिकल ग्रेड टच स्क्रीन पीसी पर चलता है, जो ऑपरेटर को वास्तविक समय में विभिन्न वेंटिलेशन मापदंडों को सेट और मॉनिटर करने की अनुमति देता है। एक बिजली आपूर्ति इकाई, जो 230VAC या एक आंतरिक बैटरी पैक के साथ काम कर सकती है, का उपयोग इलेक्ट्रो-वायवीय घटकों, नियंत्रक और वेंटिलेटर के HMI सिस्टम को बिजली देने के लिए किया जाता है। वीएयू को विभिन्न प्रकार के रोगी/वेंटिलेटर ट्रिगर इनवेसिव और गैर-इनवेसिव वेंटिलेशन मोड में संचालित करने के लिए कॉन्फ़िगर किया गया है और इसमें खराबी की स्थिति का पता लगाने और ऑपरेटर को सचेत करने के लिए एचएमआई सिस्टम के माध्यम से अलार्म बढ़ाने के प्रावधान हैं। इसरो के अनुसार, गैस से चलने वाले वेंटिलेटर ‘स्पेस वेंटिलेटर एडेड सिस्टम फॉर ट्रॉमा असिस्टेंस (एसवीएएसटीए)’, गैर-इनवेसिव वेंटिलेशन के लिए एक बुनियादी तरीका है, जो पहली पंक्ति के उपचार के लिए आपातकालीन उपयोग और वाहनों के अंदर ट्रांजिट वेंटिलेटर के रूप में उपयुक्त है। मूल डिजाइन सरल है, और महामारी जैसी स्थितियों में आपातकालीन उपयोग के लिए घटकों को आसानी से बड़े पैमाने पर उत्पादित किया जा सकता है। यह वेंटिलेटर, जो संपीड़ित हवा पर चलता है, मैनुअल मैकेनिकल सेटिंग्स का उपयोग करके विभिन्न वेंटिलेशन स्थितियों को करने में सक्षम है। प्रणाली विभिन्न ज्वारीय मात्रा निर्धारित करने के प्रावधान के साथ संचालन के अपने मूल मोड में दबाव नियंत्रण वेंटिलेशन (पीसीवी) में सक्षम है। नियंत्रण प्रणाली, इलेक्ट्रॉनिक्स और संबंधित सॉफ्टवेयर के साथ वेंटिलेशन के विभिन्न तरीकों को पूरा करने के लिए निर्माता द्वारा मूल वेंटिलेटर डिजाइन को उचित रूप से फिर से इंजीनियर किया जा सकता है, यह कहा गया था। इसरो के एक प्रमुख अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र, तिरुवनंतपुरम स्थित विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) में विकसित तीन वेंटिलेटर के प्रोटोटाइप का आंतरिक परीक्षण और मूल्यांकन किया गया है, और यह विभिन्न विशिष्टताओं को पूरा करता है। इसरो नोट में कहा गया है कि क्लिनिकल उपयोग से पहले भारत सरकार की मंजूरी देने वाली एजेंसियों से अनिवार्य प्रमाणीकरण प्राप्त करने की जिम्मेदारी उद्योग के पास है। इसरो ने कहा कि वह इन तीन वेंटिलेटर की तकनीक को सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, उद्योगों या स्टार्ट-अप्स को हस्तांतरित करना चाहता है, जिनका महत्वपूर्ण चिकित्सा / इलेक्ट्रॉनिक उपकरण निर्माण के निर्माण में अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड है। इसने इच्छुक उद्योगों और उद्यमियों को 15 जून से पहले अपनी रुचि की अभिव्यक्ति प्रस्तुत करने के लिए आमंत्रित किया।

Leave a Reply

%d bloggers like this: