September 26, 2021

छोटे बच्चों को न्यूमोकोकल बीमारी से बचाने के लिए न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन लगाई जायेगी

बच्चों को न्यूमोकोकल बीमारी से बचाने के लिए न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन (पी.सी.वी.) को नियमित टीकाकरण कार्यक्रम मे शामिल किया जा रहा है। इससे बच्चों को निमोनिया तथा दिमागी इंफेक्शन से सुरक्षा प्रदान करने मे मदद मिलेगी जो न्यूमोकोकस बैक्टिरिया द्वारा होने वाली बीमारियां हैं। कलेक्टर एवं जिला स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष श्री शिव अनंत तायल की अध्यक्षता मे आज जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक आयोजित की गई। कलेक्टर ने कहा कि टीकाकरण के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मदद् ली जायेगी। कलेक्टोरेट सभाकक्ष मे आयोजित बैठक मे जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस के शर्मा ने बताया कि जिले मे 1500 बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होने बताया कि निमोनिया 5 साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु का एक प्रमुख कारण है जो कई कारणों से हो सकता है। न्यूमोकोकस बैक्टिरिया से होने वाले निमोनिया का मुख्य कारण है। अपने बच्चों को पी.सी.वी. के तीन टीके पहला टीका डेढ़ माह मे दूसरा टीका साढ़े तीन माह मे और बूस्टर टीका 09 महीने पर लगवायें। बीमारी से सुरक्षा के लिए सुनिश्चित करें की आपके बच्चंे की पी.सी.वी. की कोई भी खुराक नही छूटे। डॉ. शर्मा ने बताया कि पी.सी.वी. एक सुरक्षित वैक्सीन है, अन्य वैक्सीन की तरह ही इससे भी आपके बच्चें को टीकाकरण के बाद हल्का बुखार या टीका देने के स्थान पर लालीपन हो सकता है।
     बैठक मे बताया गया कि यह निमोनिया से सांस के रास्ते से होने वाला संक्रमण है जिसकी वजह से फेफड़ों मे सूजन आ सकती है। इससें सांस लेने मे मुश्किल होती है और शरीर मे ऑक्सीजन की कमी होती है। पी.सी.वी. के टीकाकरण से बच्चों मे न्यूमोकोकस के कारण होने वाली बीमारियों और मृत्यु को रोका जा सकेगा। दो साल से छोटे बच्चों मे गंभीर न्यूमोकोकल बीमारी का खतरा रहता है लेकिन इसका सबसे अधिक खतरा एक साल से छोटे बच्चांे मे होता। टीकाकरण से इससे बचा जा सकता है।
     जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. शरद कोहाड़े ने कम्प्यूटर आधारित प्रस्तूतिकरण के जरिए विस्तार से जानकारी दते हुए बताया कि पी.सी.वी. वैक्सीन नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अन्तर्गत सभी सरकारी अस्पताल, डिस्पेसरी, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं टीकाकरण सत्रों मे बच्चों को मुफ्त मे लगाई जायेगी। बैठक मे जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती रीता यादव, महिला एवं बाल विकास के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री बिद्याधर पटेल, मुख्य नगर पालिका अधिकारी श्री होरी सिंह ठाकुर, जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्रीमती अनुपमा तिवारी, महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारी एवं खण्ड चिकित्सा अधिकारी (बीएमओ) उपस्थित थे।