Editorial :- kya pak sena pramukh Bjwa ke gale mile Shiddhu ke liye desh se badi Imran ki dosti

एक सोची समझी साजिश के तहत सोनिया गांधी के निर्देश पर मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान में पाकिस्तान से आईएसआई से मदद लेने के लिये पहुंचे थे भारत की मोदी सरकार को हटाने के लिये।

सोनिया गांधी का अनुसरण करते हुए राहुल गांधी के निर्देश से उनके प्रतिनिधि बनकर  नवजोत सिद्धृ पाकिस्तान गये। वहॉ वे गर्मजोशी के साथ अट्टहास करते हुए कुख्यात आर्मी चीफ बाजवा से गले मिले और पीओके के राष्ट्रपति के साथ नजदीकियां बढ़ाते हुए उनके पास बैठे।

यह संकेत है कि कांग्रेस पार्टी पाकिस्तान और चीन की मदद से २०१९ के लोकसभा चुनाव में कुछ अप्रत्याशित घटनाक्रम रचने का षडयंत्र करने वाली है।

इसका पूर्वाभास गुजरात चुनाव के समय मनमोहन सिंह और हामिद अंसारी का रात्रि के अंधेेरे में मणिशंकर अय्यर के घर की रोशनी में पाकिस्तान के पूर्व विदेशमंत्री और भारत में वर्तमान पाकिस्तान के एम्बेसेडर से मिले यह   षडयंत्र का ही हिस्सा था।

उसी हिस्से के अनुरूप  मणिशंकर अय्यर ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को नीच कहा था। गुजरात विधानसभा चुनाव पर इसका उल्टा असर पड़ते देख दिखावे के लिये राहुल गांधी ने मणिशंकर अय्यर को निलंबित कर दिया था।

कल सिद्धू का पाकिस्तान में भारत विरोधी दृश्य उपस्थित करना और कल ही देर रात को मणिशंकर अय्यर का निलंबन खत्म करना कोई साधारण घटना नही बल्कि जिस षडयंत्र की हम चर्चा कर रहे हैं उसी के अनुरूप राहुल गांधी के द्वारा उठाये गये कदम है।

डोकलाम विवाद के समय गुपचुप तरीके से एक बार नहीं दो बार चीन के एम्बेसडर से राहुल गांधी और उनके सिपहेसालार आनंद शर्मा तथा वाड्रा के साथ मुलाकात की। इस मुलाकात में उन्होंने क्या चर्चा की यह आज तक उन्होंने जाहिर नहीं किया है। परंतु यह पब्लिक है सब जानती है।

२३ जून को मीडिया रिपोर्ट के अनुसार  २६/११ के वांक्षित अपराधी हाफिज सईद ने कहा था कि कांग्रेस में अच्छे लोग हैं अर्थात बीजेपी खराब है और कांग्रेस अच्छी। यह दर्शाता है लश्कर कांग्रेस का गठबंधन। इसी गठबंधन के अनुरूप मणिशंकर के बाद नवजोत सिद्धृ की यात्रा पाकिस्तान हुई है।

लश्कर ने २३ जून को आधिकारिक रूप से कांग्रेस के समर्थन में प्रेस नोट जारी किया, और अब हाफिज सईद ने कांग्रेस की जमकर तारीफ की। हाफिज सईद ने कहा की – कांग्रेस में बात करने वाले अच्छे लोग है, बीजेपी खऱाब है कांग्रेस अच्छी है, हाफिज कहता है की मेरा ख्याल है की कांग्रेस में अच्छे लोग मौजूद है

सईद का कहना है की कश्मीर पर कांग्रेस अच्छा बोल रही है, बता दें की गुलाम नबी आजाद ने हाल ही में भारतीय सेना को नरसंहार करने वाला बताया है, और सैफुद्दीन सोज़ ने कश्मीर को आजाद करने की मांग की है

और हाफिज सईद ने भी कांग्रेस को अच्छा होने का सर्टिफिकेट दे दिया है, जिसे कांग्रेस पार्टी ने भी ख़ुशी ख़ुशी कुबूल कर लिया है ऐसा लगता है।

गुलाम नबी आजाद ने भारतीय सेना को हत्यारा बताया है और कहा है की जम्मू कश्मीर में भारत की फ़ौज मासूम लोगों को मारती है, सेना के निशाने पर सिविलियन लोग होते है।

वहीँ कांग्रेस के बड़े नेता सैफुदीन सोज़ ने तो कश्मीर को आजाद कर देने की मांग कर दी है और कहा है की कश्मीर को भारत से आज़ादी चाहिए, कांग्रेस ने दोनों ही नेताओं के बयान का विरोध नहीं किया, साफ़ है की कांग्रेस इन बयानों के साथ है।

इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए नवजोत सिद्धृ ने पाकिस्तान की यात्रा राहुल गांधी के इशारे पर की है। पाकिस्तान से लौटते हुए सिद्धृ ने अपनी इस यात्रा को स्मरणीय बनाने के लिये वहॉ से जूते खरीद कर लाये हैं। मियां की जूती मियां का सर।

यहॉ यह उल्लेखनीय है कि खालिस्तानी आतंकी गोपाल सिंह चावला के साथ हाफिज सईद की तस्वीर मीडिया में प्रकाशित हो चुकी है तथा समाचार प्रकाशित भी होते रहे हैं कि खालिस्तानी आतंकियों की मदद से पाक पंजाब में हमले करने की फिराक में है। बावजूद इसके २०१९ के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर नवजोत सिद्धू मणिशंकर अय्यर के पदचिन्हों पर चले।

पाक परस्त कांग्रेस को ध्यान देना चाहिये कि    इस्लामिक आतंकी अब्दुल रहमान ने सिख धर्म संस्थापक पूज्यनीय गुरु नानकदेव जी के खिलाफ कहे थे बेहद आपत्तिजनक- अपमानजनक शब्द।

वोटों की राजनीति के कारण जिस प्रकार से इंदिरा गांधी ने भिंडरवाले को उक्साया और जो बाद में खालिस्तान का प्रणेता बना उसी रास्ते पर सोनिया गांधी और राहुल गांधी का कांग्रेस को ले जाना किसी भी दृष्टि से उचित नहीं कहा जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *