‘बिहान‘ की महिलाओं ने गढ़ा सफलता के नये प्रतिमान

जो महिलाएं कल तक जहां खेती मजदूरी या फिर वनोपज संग्रहण करके अपना जीवन यापन कर रही थीं। आज वहीं सीधी सरल ग्राम्य महिलाएं स्वरोजगार के ऐसे क्षेत्रो में प्रवेश कर रही हैं जिसके बारे में पहले किसी ने सोचा तक न था और तो और एक निश्चित आमदनी उनके हाथ में होने से इन महिलाओं के आत्मविश्वास में भरपूर इजाफा हुआ है। घर परिवार की होने वाली आय में अब इनका योगदान एक महत्वपूर्ण उपलब्धि साबित हो रहा है। यह चमत्कार हुआ राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के माध्यम से। इस चमत्कार का सकारात्मक प्रभाव विकासखण्ड कोण्डागांव के एक छोटे से गांव बोलबोला की ‘तुलसी‘ स्व-सहायता समूह की सदस्यों पर भी हुआ है।ज्ञात हो कि कोण्डागांव जिले में बिहान अंतर्गत जिला प्रशासन द्वारा संचालित ‘उड़ान‘ नामक संस्था महिला स्वरोजगार के क्षेत्र में कार्यरत् है। इस संस्था के माध्यम से महिलाओं को स्वरोजगार एवं स्वालम्बन के विभिन्न नये-नये क्षेत्रों से प्रशिक्षित किया जाता है।
उड़ान संस्थान से प्रशिक्षित ग्राम बोलबोला की तुलसी स्व-सहायता समूह द्वारा वर्तमान में कुल 12 निर्माण गतिविधियों में अपना योगदान दे रहा है। जिनमें मसाले निर्माण, कुकीज, बेकरी, बिस्किट, आचार, दोना-पत्तल निर्माण, नॉन वूलन बैग, स्लीपर निर्माण जैसे कार्य सम्मिलित है। इस स्व-सहायता समूह की अध्यक्ष सुश्री संतोषी नेताम बताती हैं कि उनके समूह में कुल 70 महिलाएं कार्यरत् हैं। इनमें से अधिकतर घरेलु अथवा न्यूनतम बारहवीं तक शिक्षा प्राप्त महिलाएं हैं, जो पहले सिर्फ घर गृहस्थी अथवा खेती-किसानी का कार्य ही करती रही हैं परन्तु अब स्थिति बदल चुकी है। इस समूह में न केवल ग्राम बोलबोला की महिलाएं ही शामिल हैं बल्कि आस-पास के ग्राम बड़ेकनेरा, झड़ेबेंदरी, करंजी, कोकोड़ी, जोंधरापदर, सम्बलपुर की महिलाएं भी उत्साहपूर्वक कार्यरत् हैं। इन सब कार्य हेतु महिलाओं को प्रतिदिन 200 रूपये की आय हो रही है। जिससे इनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हुई है।